ऐतिहासिक पड्डल मैदान के साथ हो रहा खिलवाड़, और कितना सहेगा पड्डल मैदान !

0
1591

मण्डी – प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी की मण्डी रैली के लिए एक हफ्ते से भी कम समय में तैयार हो जायेगा रैली के लिए मैदान। यह संयोग की ही बात है, जिस मैदान में पिछले कई महीनों से कायाकल्प कार्य चला हुआ था, अब यह मैदान मात्र कुछ दिनों में तैयार हो जायेगा, जिसका काम युद्ध स्तर पर चला हुआ है।

यह भी सोचने वाली बात है की बार बार सौदर्याकरण के नाम पर पड्डल में काम शुरू होता है और नतीजा सिफ़र ही नज़र आता है, पिछले शिवरात्रि मेलों से पहले किये गए काम, जिनमें लाखों रूपये खर्च हुए थे, पर मैदान की हालत पहले से भी बदत्तर थी, मतलब एक पैसे का भी उपयोग सही ढंग से नहीं हुआ था, भारत की जनता की उदासीनता ही है जो कभी काम का आंकलन नहीं करती, जबकि हर एक पैसा जनता की जेब से जाता है, जिसका हिसाब जनता को लेना चाहिए।

उसके बाद एक बार फिर पड्डल में कार्य शुरू हुआ, इसका खर्चा भी लाखों में ही होगा, शायद की किसी के पास इतना समय हो कि वो सरकार और ठेकेदार से काम का हिसाब पूछे, पिछले कितने ही महीनो से पड्डल मैदान हर तरह ही गतिविधियों के लिए उपलब्ध नहीं है, काम किस गति से चल रहा है ये हर कोई जानता है, हर तरह मिट्टी और पत्थरों के ढेर थे। पड्डल मैदान के साथ खिलवाड़ हो रहा है, बार बार मैदान को सुधारने के नाम पर काम शुरू होते हैं, पर अंत में नतीजा
वही होता है, मैं आशा करता हूँ की इस बार मैदान के साथ खिलवाड़ नहीं होगा और मण्डी शहर में एक बेहतर पड्डल देखने को मिलेगा !

अब एकाएक मैदान को समतल किया जा रहा है, इस तरह रफ़्तार से किये गए काम की गुणवत्ता पर किसी को शक नहीं होना चाहिए ! क्या पड्डल से मिट्टी उठाने भर से पड्डल एक बेहतर मैदान बन जायेगा ? क्या कोई तकनीशियन हर दिन काम की अवलोकना करता है ? पानी की निकासी के लिए क्या कोई तकनीक इस्तेमाल की गई है ? ऐसे कई और सवाल हर जागरूक नागरिक के जहन में उठते होंगे, पर क्या कभी हमने ” चलता है ” से आगे बढ़कर कभी जबाबदेही मांगी है। अगर हर नागरिक “चलता है ” वाली सोच छोड़ दे तो ये देश की तरकी के लिए बहुत बड़ा योगदान हो सकता है ,और जनता के पैसे का सदुपयोग सही मायने में होता !

अभी भी अगर हम कोशिश करेगें तो पड्डल मैदान बेहतर बन सकता है, बस जरुरत है तो आवाज उठाने की, और एक एक पैसे का हिसाब लेने की।


आजकल का पड्डल मैदान !!
paddal-mandi-hp-3

paddal-mandi-hp-4

paddal-mandi-hp-2

Comments

comments