मंडयाली गप्पा – बलवंत सिंह

0
294

मंडयाली गप्पा

तेबे जे जाणा हुआँ,
चण्डीगढ़ा ते मंडिजो,
कारा रे हुँये
येहे रोणे — बोलाहीं
मिंजो चलाया धोरे-धोरे,
मिंजो लगहाएँ हिलोरे,
सड़का पईरे खोले-खोलेँ !
मण्डी पूजदे पूजदे,
सक्ला रा हुई जा सत्यानाश
रोड आ बड़ा भारी बकबास !
केभे केभे हुयें बम्परा रे ठलाके,
केभे हुयें टायरा रे पटाके,
ठेकेदारे- सरकारे,
लूटी – लूटी कने पाईरे डाके !
सड़का ता पाँदे ही नी टाके !
देखो भाईयो –
हिफाजती कने चलणा,
नई ता लगी जाहें नकाके,
ऐस रोड़ा ता पाईरे रहणे,
येहड़े सयापे हो खड़ाके !

-बलवंत सिंह

Comments

comments

SHARE
Next articleखुले में जलाया जा रहा कूड़ा !!
आप भी "mandinews.in" को लेख, समाचार, कहानी, कविता, जानकारी, विचार, सुझाव और शिकायतों को भेज सकते है। हमें disttmandi@gmail.com पर ईमेल करें, हमें आपके पत्रों का इंतजार रहेगा। कृपया ईमेल के साथ अपना सक्षिप्त परिचय अवश्य जरूर भेजें, फोटो और videos भी इसी ईमेल पर भेजे जा सकते हैं।